वंडरूम

Wonderoom Rajiv Gandhi Foundation - image1

वंडरूम

Wonderoom Rajiv Gandhi Foundation - image2‘वंडरूम’ की संकल्पना 2011 में ऐसे अभिनव प्रयोगशाला और केंद्र के रूप में की गई जो बच्चों के सीखने की प्रक्रिया का अध्ययन कर इसमें योगदान दे सके। वंडरूम की गतिविधियाँ इस तरह से डिजाइन की गईं जिससे बच्चों के लिए सीखने की प्रक्रिया दिलचस्प और आकर्षक बने। वह बच्चों को अपने स्वयं के जीवन से जुड़ी हुई लगे। आसपास के स्कूलों में बाल केंद्रित परियोजनाओं को लागू करने के लिए वंडरूम ने स्थानीय निकायों, जैसे- नई दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) के साथ सहयोग कायम किया है। समय के साथ-साथ वंडरूम एक ऐसे अभिनव पुस्तकालय में विकसित हो गया जो विभिन्न सामाजिक आर्थिक पृष्ठभूमि के बच्चों को 5,000 से भी अधिक पुस्तकों की दुनिया में खोज करने के लिए प्रोत्साहित करती है। बच्चे और भी कई गतिविधियों, जैसे- पुस्तक-वाचन, कथावाचन, क्लब, समर कैम्प, थिएटर, संगीत और विज्ञान की मज़ेदार गतिविधियों आदि की कार्यशालाओं में भी भाग लेने लगे हैं। 300 से भी अधिक बच्चे और माता-पिता इस द्विमासिक वंडर कार्यक्रमों में भाग लेते हैं जहाँ बच्चे अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करते हैं। वंडरूम जवाहर भवन में स्थित है और प्रतिदिन 10 बजे सुबह से 7 बजे शाम तक खुली रहती है।
वंडरूम को फेसबुक पेज पसंद करे

 

 

हमें प्रेरित करनेवाली कहानियाँ